[ujala scheme] uday – Ujwal DISCOM Assurance Yojana 2020 Online

सरकार की UDAY – Ujwal DISCOM Assurance Scheme (ujala scheme) एक वित्तीय पुनर्गठन और दक्षता बढ़ाने वाला कार्यक्रम है, जिसका उद्देश्य राज्य के स्वामित्व वाली बिजली वितरण कंपनियों (DISCOM) के ऋण के बोझ को कम करना है। DISCOMs – उनमें से ज्यादातर राज्य सरकारों के स्वामित्व में हैं, लगभग 3.8 लाख करोड़ रुपये का संचित घाटा और लगभग 4.3 लाख करोड़ रुपये का बकाया ऋण (मार्च, 2015 के अनुसार)

UDAY वेब पोर्टल www.uday.gov.in राज्यों / DISCOM द्वारा UDAY मापदंडों को अपलोड करने और UDAY के तहत राज्यों / DISCOMs के प्रदर्शन के पारदर्शी प्रसार के लिए विकसित किया गया है और वर्तमान में परीक्षण के अधीन है। यह राज्यों और DISCOMS द्वारा UDAY के तहत किए गए वित्तीय और परिचालन प्रगति के सार्वजनिक प्रकटीकरण को पारस्परिक रूप से तय किए गए ढांचे के आधार पर सक्षम करेगा।

सुधार बैरोमीटर और सुधार की प्रवृत्ति, पोर्टल की एक महत्वपूर्ण विशेषता, UDAY के तहत DISCOMs / स्टेट्स के प्रदर्शन का एक उद्देश्य विश्लेषण करेगी। जल्द ही मोबाइल ऐप भी लॉन्च किया जाना है।

Ujwal DISCOM Assurance Yojana (ujala scheme) 2020

उज्जवल डिस्कॉम एश्योरेंस योजना भारत की बिजली वितरण कंपनियों के लिए वित्तीय बदलाव और पुनरुद्धार पैकेज है, जो भारत सरकार द्वारा वित्तीय गड़बड़ी का स्थायी समाधान खोजने के इरादे से शुरू की गई है, जिसमें बिजली वितरण है और यह एक वित्तीय पुनर्गठन और दक्षता बढ़ाने वाला कार्यक्रम है

हालांकि UDAY का मुख्य घटक ऋण प्रबंधन है, परिचालन क्षमता बढ़ाने जैसे अन्य उपायों को भी DISCOMs के ऋण परिदृश्य को स्थायी रूप से व्यवस्थित करने का प्रस्ताव है।

DISCOMs की दक्षता में सुधार के लिए UDAY के हिस्से के रूप में चार पहलें तैयार की गई हैं:

(i) DISCOMs की परिचालन क्षमता में सुधार;
(ii) बिजली की लागत में कमी;
(iii) DISCOMs की ब्याज लागत में कमी;
(iv) राज्य वित्त के साथ संरेखण के माध्यम से DISCOMs पर वित्तीय अनुशासन लागू करना।

परिचालन दक्षता में ट्रांसमिशन और वितरण (या चोरी) के दौरान खो जाने वाली बिजली को कम करने के लिए अनिवार्य स्मार्ट मीटरिंग, ट्रांसफार्मर का उन्नयन और मीटर शामिल हैं।

Uday scheme के उद्देश्य

ऊर्जा मंत्रालय, भारत सरकार ने उज्जवल डिस्कॉम एश्योरेंस योजना (UDAY) शुरू की, जिसे 5 नवंबर, 2015 को केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा अनुमोदित किया गया था। योजना के मुख्य उद्देश्य कुछ निम्न प्रकार से हैं:

  • वित्तीय बदलाव
  • परिचालन में सुधार
  • बिजली उत्पादन की लागत में कमी
  • नवीकरणीय ऊर्जा का विकास
  • ऊर्जा दक्षता और संरक्षण

Uday scheme में सहभागी राज्यों को लाभ

केंद्रीय सहायता के माध्यम से बिजली की लागत में कमी

  • घरेलू कोयले की आपूर्ति में वृद्धि
  • अधिसूचित कीमतों पर कोयला लिंकेज का आवंटन
  • कोयला मूल्य युक्तिकरण
  • कोयला लिंकेज युक्तिकरण और कोयला स्वैप की अनुमति
  • धुले और कुचले हुए कोयले की आपूर्ति
  • अधिसूचित कीमतों पर अतिरिक्त कोयला
  • अंतरराज्यीय ट्रांसमिशन लाइनों की तेजी से पूरा हो रहा है
  • पारदर्शी प्रतिस्पर्धी बोली के माध्यम से बिजली खरीद

Uday scheme का प्रभाव

UDAY ने 2014-15 के अंत में पहले से मौजूद DISCOMS ऋण का 62% पता कर लिया है। महाराष्ट्र, तेलंगाना, असम और केरल के जल्द ही UDAY के ऑन-बोर्ड होने की संभावना है, लगभग 78% राज्य क्षेत्र DISCOM ऋण (बिजली विभाग को छोड़कर) UDAY के तहत कवर किया जाएगा।

UDAY राज्यों के ऋण का लगभग 76% हिस्सा, 1.68 लाख करोड़ रुपये के बांड के साथ जारी किया गया है और सफलतापूर्वक जारी किया गया है। ब्याज लागत को कम करने के कारण राजस्थान, यूपी हरियाणा, पंजाब, छत्तीसगढ़ और बिहार राज्यों के लिए वित्त वर्ष 2016-17 के क्यूआई पर लगभग 2,236 करोड़ रुपये की बचत हुई है और यह DISCOMS में भाग लेने की परिचालन स्थिरता सुनिश्चित करता है।

  • बिजली की बढ़ती मांग
  • पौधों के उत्पादन की पीएलएफ में सुधार
  • स्ट्रेस्ड एसेट्स में कमी
  • सस्ते फंड की उपलब्धता
  • पूंजी निवेश बढ़ा
  • अक्षय ऊर्जा क्षेत्र का विकास

अंतत: सस्ती कीमत पर 24*7 बिजली की उपलब्धता

MOU Signed by the States under UDAY

केंद्र सरकार ने UDAY – Ujwal DISCOM Assurance Scheme को अच्छे से आगे बदने के लिए की राज्यों के साथ MOU Signe किए हैं जिनकी PDF आपको यहाँ नीचे मिल जाएगी:

UDAY - Ujwal DISCOM Assurance Scheme

Source : powermin.nic.in

दूसरों के साथ शेयर करें

Leave a Comment