PM Kusum Yojana 2020 Online आवेदन

नमस्कार दोस्तों आज हम यहां Kusum Yojana पर बात करने वाले हैं pm kusum yojana के बारे में कि आखिर यह kusum solar yojana क्या है और साथ ही हम जानेंगे pm kusum yojana के क्या लाभ हैं? सरकार की इस kusum yojana का फायदा किस तरह से उठाया जा सकता है pm kusum योजना में कौन भागीदार बन सकता है और यहां हम kusum yojana in hindi (हिंदी) भाषा में इस पर चर्चा करेंगे #gandhi solar park

PM Kusum Yojana

दोस्तों जैसा की आप सभी जानते ही हैं की सरकार द्वारा चलाई जा रही PM कुसुम योजना जैसी सभी योजनाओं के बारे में बहुत ही कम लोगों को पूरी जानकारी रहती है पर बहुत से ऐसे व्यक्ति हैं जिन्हें इस योजना के बारे में कुछ भी जानकारी नहीं रहती क्योंकि ज्यादातर इंटरनेट पर इन योजनाओं को अंग्रेजी भाषा में प्रकाशित किया जाता है.

पर दोस्तों अब यहां पर हम आपको इस pm kusum yojana के बारे में पूरी जानकारी हिंदी भाषा में देने बाले हैं ताकि किसी को भी यह जानकारी पढ़ने मैं कोई समस्या ना आये तो चलिए ज्यादा समय को ना बर्बाद करते हुए इस pm kusum yojana योजना के बारे में विस्तार से समझते हैं

योजना का नाम PM कुसुम योजना
योजना का पूर्ण रूपकिसान ऊर्जा सुरक्षा उत्थान महाभियान योजना
कुसुम योजना ऑफिशियल वेबसाइटmnre.gov.in
Announced by February 2019 , अरुण जेटली
लक्षित लाभार्थी  खेतिहर मजदूर या किसान
निवेश राशि34,422 Caror 2019

pm kusum yojana क्या हे?

दोस्तों यह सरकार की पीएम कुसुम योजना हमारे देश के सभी किसानों के लिए है सरल शब्दों में कहें तो इस योजना के माध्यम से हमारे देश के सभी गरीब किसानों की फसल की सिंचाई के संयंत्रों पर भारी सब्सिडी उपलब्ध कराई जाती है या फिर और ज्यादा सरल शब्दों में कहे तो सरकार की इस योजना के माध्यम से किसानों को उनकी खेतों की सिंचाई के लिए यंत्रों की उपलब्धता को बहुत ही कम दाम में पूरा किया जाता है और साथ ही योजना के अंतर्गत किसानो के लिए सौर्य ऊर्जा की कई तकनीकों को उपलभ्द कराया जायेगा

किसानों की बेहतरी के उद्देश्य से सरकार द्वारा कई अनूठी योजनाओं की घोषणा की गई है। इन सभी योजनाओं में से यह योजना (कुसुम योजना) भी एक है। इस व्यवस्था के तहत, केंद्र सरकार किसानों को अपने खेतों पर नए और बेहतर सौर पंप स्थापित करने के लिए अधिक से अधिक किसानों की सहायता करना चाहती है। किसानों को इस लाभ के लिए भारी शुल्क का भुगतान करने की अब आवश्यकता नहीं है क्योंकि यह सरकारी अनुदान के साथ अब किसान भाइयों को दिया जाएगा ।

योजना के तहत सरकार किसानों के खेतों में सौर ऊर्जा प्लांट स्थापित करेगी या फिर कहें किसान सरकार की मदद से अपने खेत में सौर ऊर्जा प्लांट लगा पाएगा जिसके माध्यम से बिजली उत्पादन कर उसे सरकार को बेचकर पैसा भी कमा पाएगा ऐसा वह किसान कर पाएगा जिसकी भूमि खेती योग्य नहीं है या बंजर है वहां पर सरकार सूर्य ऊर्जा प्लांट स्थापित करेगी अन्य किसान भी योजना के तहत सौर ऊर्जा प्लांट लगवा सकते हैं

इस लेख के माध्यम से हम आपको इस योजना से संबंधित सारी जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं कि आखिर आप इस योजना में किस तरह से आप ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं योजना का लाभ लेने के लिए किसान के पास क्या पात्रता होनी चाहिए आदि सभी जानकारियां हमें यहां पर आपको प्रदान करेंगे तो आप इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें

Phase I Of PM Kusum Yojana

नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय (एमएनआरई) ने देश में सोलर पंप और ग्रिड से जुड़े सौर और अन्य नवीकरणीय संयंत्रों की स्थापना के लिए किसानों के लिए प्रधानमंत्री किसान उर्जा सुरक्षा उत्थान महाभियान (पीएम कुसुम) योजना शुरू की है।

योजना का लक्ष्य 2022 तक सौर और अन्य नवीकरणीय क्षमता को 25,750 मेगावाट जोड़ना है, जिसमें कुल केंद्रीय वित्तीय सहायता 343422 करोड़ रुपये है, जिसमें कार्यान्वयन एजेंसियों को सेवा शुल्क भी शामिल है।

pm Kusum yojana objective ( उद्देश्य )

हम यहां पर आप सभी को बताना चाहेंगे कि इस Kusum yojana का पूरा नाम किसान ऊर्जा सुरक्षा व उत्थान महाअभियान (कुसुम) है इसके बारे में और अधिक जानकारी आप Ministry of New and Renewable Energy (MNRE) विभाग की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर प्राप्त कर सकते हैं

इस योजना का मुख्य उद्देश्य किसानों को उनकी फसल पैदा करने के लिए उन्नत तकनीक प्रदान करना है। योजना का मुख्य उद्देश्य किसानों को काम लगत पर सौर पम्प उपलभ्द कराना है सौर पंप न केवल किसानों को सिंचित करने में मदद करेंगे, बल्कि प्रत्येक किसान को सुरक्षित ऊर्जा उत्पन्न करने मैं भी मदद करेंगे। ऊर्जा पावर ग्रिड की उपस्थिति के कारण, कृषि मजदूर अतिरिक्त बिजली सीधे सरकार को भी बेच सकते हैं। यह किसानों के लिए अतिरिक्त आय अर्जित करने का भी एक जरिया होगा। तो इस तरह से यह PM Kusum Yojana किसानों को दोहरा लाभ प्रदान करेगी।

कुसुम योजना के तहत हमारे किसान भाइयों को अत्यधिक फायदा होने बाला है जैसा की हमारे प्रधानमंत्री जी का सपना है कि हमारे देश के किसानों की आय को आने वाले कुछ वर्षों में दोगुना किया जाए इसी के चलते सरकार किसान भाइयों के लिए अधिक से अधिक नई योजनाओं का विस्तार कर रही है उन्हीं में से PM Kusum Yojana एक है

PM Kusum Yojana Eligibility Criteria (पात्रता मापदंड)

फिलहाल Kusum Yojana के पात्रता मापदंड के लिए अभी कोई ऑफिशियल नोटिफिकेशन सरकार द्वारा जारी नहीं किया गया है लेकिन मीडिया आउटलेट्स अनुमानों के हिसाब से PM Kusum Yojana के लिए पात्रता मापदंड कुछ इस प्रकार से है:

  • योजना का भागीदार बनने के लिए व्यक्ति भारत का मूल निवासी होना चाहिए यह योजना केवल भारतीय किसानों के लिए
  • यह कुसम योजना भारत के लगभग सभी किसानों के लिए है चाहे किसान के पास कम खेती योग्य भूमि हो या फिर ज्यादा
  • किसान की आय के अनुसार किसान को योजना की पात्रता प्रदान की जाएगी
  • PM Kusum Yojana का पात्र वही किसान होगा जिसके पास खेती योग्य भूमि हो

Benefits of PM Kusum Yojana (लाभ)

किसानों की भलाई के लिए – कुसुम योजना का सफल संचालन किसानों को न केवल उनकी बिजली संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने में मदद करेगा, बल्कि अतिरिक्त ऊर्जा बेचकर कुछ अतिरिक्त नकदी अर्जित करने में भी सहायता मिलेगी।

सौर ऊर्जा संचालित पंपों का वितरण – कुसुम योजना का प्राथमिक उद्देश्य सौर पंपों को इच्छुक किसानों को प्रदान करना है। सरकार के अनुसार इस योजना के अंतर्गत कृषि मजदूरों को 17.5 लाख सौर ऊर्जा संचालित पंप उपलब्ध कराए जाएंगे।

छोटे पैमाने पर बिजली उत्पादन – सौर ऊर्जा संयंत्रों के अलावा, सरकार खेतों में नए सौर पंपों की स्थापना की दिशा में काम करेगी, जिनमें डीजल पंप हैं। इन पंपों की क्षमता 720 मेगावाट होगी।

नलकूपों से बिजली उत्पादन – सरकार अद्वितीय नलकूपों की स्थापना की दिशा में भी काम करेगी। इनमें से प्रत्येक पंप 8250 मेगावाट की बिजली पैदा कर सकेगा

योजना की सब्सिडी संरचना – मसौदे के अनुसार, प्रत्येक किसान को नए और बेहतर सौर ऊर्जा संचालित पंपों पर भारी सब्सिडी मिलेगी। कृषि मजदूरों को एक स्थापित सोलर पंप प्राप्त करने के लिए कुल खर्च का केवल 10% सहन करना होगा। केंद्र सरकार 60% लागत प्रदान करेगी, जबकि शेष 30% को क्रेडिट के रूप में बैंक द्वारा ध्यान रखा जाएगा।

यह योजना ग्रामीण भूमि मालिकों को उनकी सूखी / गैर-उपयोगी भूमि का उपयोग करके 25 वर्ष की अवधि के लिए आय का एक स्थिर और निरंतर स्रोत खोलेगी। इसके अलावा, अगर सौर ऊर्जा परियोजना स्थापित करने के लिए खेती योग्य खेतों को चुना जाता है, तो किसान फसलों को उगा सकते हैं क्योंकि सौर पैनलों को न्यूनतम ऊंचाई से ऊपर स्थापित किया जाना है।

प्रस्तावित योजना यह सुनिश्चित करेगी कि ग्रामीण लोड केंद्रों और कृषि पंप-सेट लोड को खिलाने के लिए पर्याप्त स्थानीय सौर / अन्य नवीकरणीय ऊर्जा आधारित बिजली उपलब्ध हो, जिन्हें दिन के समय बिजली की आवश्यकता होती है। चूंकि ये बिजली संयंत्र कृषि भार या विकेन्द्रीकृत तरीके से विद्युत सबस्टेशनों के करीब स्थित होंगे, इसके परिणामस्वरूप एसटीयू और डिस्कॉम के लिए ट्रांसमिशन में कमी आएगी। इसके अलावा, योजना RPO लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए डिस्कॉम को भी मदद करेगी

सौर पंप डीजल पंप चलाने के लिए डीजल पर किए गए खर्च को बचाएंगे और किसानों को डीजल पंप चलाने से होने वाले हानिकारक प्रदूषण को रोकने के अलावा सौर पंप के माध्यम से सिंचाई का एक विश्वसनीय स्रोत प्रदान करेंगे। इलेक्ट्रिक ग्रिड कनेक्शन के लिए लंबी प्रतीक्षा सूची के प्रकाश में, इस योजना से ग्रिड लोड को जोड़ने के बिना, चार वर्षों की अवधि में 17.5 लाख किसानों को लाभ होगा।

PM Kusum Yojana Online Apply (आवेदन फार्म)

दोस्तों हम आप सभी को बता दें फिलहाल अभी इस योजना में ऑनलाइन आवेदन करने के लिए सरकार ने कोई डेडीकेटेड पोर्टल लॉन्च नहीं किया है इसलिए अभी आप इस योजना में कहीं से भी ऑनलाइन आवेदन नहीं कर सकते हैं लेकिन सरकार इस योजना को पूर्ण रुप से लागू करने के लिए जल्द ही एक नया डेडीकेटेड पोर्टल लॉन्च कर सकती है

सरकार के द्वारा ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया का नोटिफिकेशन जैसे ही जारी किया जाता है तो सबसे पहले हमारे द्वारा आपको सूचित कर दिया जाएगा

PM Kusum Yojana से संबंधित और भी अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए आप Ministry of New and Renewable Energy (MNRE) विभाग की ऑफिसियल वेबसाइट mnre.gov.in पर जा सकते हैं

PM Kusum Yojana 2020 Budget Update

हमारे देश के वर्तमान वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण 2020-21 के बजट को पेश करते हुए प्रधानमंत्री कृषि ऊर्जा सुरक्षा उत्थान महाभियान (PM Kusum) टी विस्तार की घोषणा की सरकार की इस PM Kusum Yojana के तहत 20 लाख किसानों को सोलर पंप लगाने में सरकार किसानों की मदद करेगी

वित्त मंत्री जी आपने 2020-21 के बजट में कहा कि ग्रिड से जुड़े सोलर पंप लगाने के लिए 15 लाख किसानों को PM Kusum Yojana के तहत धन मुहैया कराया जाएगा आप सभी को बता दें योजना की शुरुआत मोदी सरकार के पिछले कार्यकाल में फरवरी 2019 में की गई थी जिसके लिए सरकार द्वारा 34,422 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया था.

वित्त मंत्री श्रीमती सीतारमण ने लोकसभा में अपने भाषण के दौरान कहा कि इस योजना के चलते किसानों की डीजल और केरोसिन पर निर्भरता आप बहुत कम हो गई है इस योजना के चलते किसान सौर ऊर्जा से जुड़े हैं PM Kusum Yojana योजना से किसान सौर ऊर्जा उत्पादन करने और उसे ग्रिड को बेचने में सक्षम हुए हैं

Reference: mnre.gov.in

Leave a Comment