Deendayal antyodaya yojana 2020 NRLM/NULM

दूसरों के साथ शेयर करें

नमस्कार दोस्तों आज हम यहां deendayal antyodaya yojana पर बात करने वाले हैं. deen dayal antyodaya yojana के बारे में कि आखिर यह deendayal antyodaya क्या है? और साथ ही हम जानेंगे antyodaya yojana के क्या लाभ हैं? सरकार की इस deen dayal upadhyaya antyodaya yojana का फायदा किस तरह से उठाया जा सकता है, deendayal antyodaya yojana योजना में कौन भागीदार बन सकता है और यहां हम deendayal antyodaya yojana in hindi (हिंदी) भाषा में इस पर चर्चा करेंगे

deen dayal antyodaya yojana

दोस्तों जैसा की आप सभी जानते ही हैं की सरकार द्वारा चलाई जा रही deendayal antyodaya yojana जैसी सभी योजनाओं के बारे में बहुत ही कम लोगों को पूरी जानकारी रहती है पर बहुत से ऐसे व्यक्ति हैं जिन्हें ऐसी योजनाओं के बारे में कुछ भी जानकारी नहीं रहती क्योंकि ज्यादातर इंटरनेट पर इन योजनाओं को अंग्रेजी भाषा में प्रकाशित किया जाता है.

पर दोस्तों अब यहां पर हम आपको इस Deendayal antyodaya yojana के बारे में पूरी जानकारी हिंदी भाषा में देने बाले हैं ताकि किसी को भी यह जानकारी पढ़ने मैं कोई समस्या ना आये तो चलिए ज्यादा समय को ना बर्बाद करते हुए इस Deendayal antyodaya yojana योजना के बारे में विस्तार से समझते हैं

योजना का नाम दीनदयाल अंत्योदय योजना
योजना के रूपNRLM / NULM
NRLM का पूर्ण रूप National Rural Livelihoods Mission
NULM का पूर्ण रूप National Urban Livelihoods Mission
ऑफिशियल वेबसाइट nulm.gov.in (Urban)  nrlm.gov.in (Rural) Or aajeevika.gov.in
Launched By, 

NRLM Launch Date,

NULM Launch Date,

PM Narendra Modi, 25 September 2014.

June 2011. 

23rd September, 2013.

निवेश राशि ₹500 crore
लक्षित लाभार्थी To reduce poverty

Deendayal antyodaya Yojana क्या है? (What is Aajeevika scheme?)

दोस्तों दीन दयाल अंत्योदय योजना भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय (MoRD), द्वारा 2011 में स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना (SGSY) के पुनर्गठन संस्करण के रूप में शुरू की गई थी। सरकार की इस अंत्योदय योजना का उद्देश्य ग्रामीण गरीबों के लिए कुशल और प्रभावी संस्थागत मंच तैयार करना है ताकि उन्हें स्थायी आजीविका संवर्द्धन के माध्यम से घरेलू आय में वृद्धि करने में मदद मिल सके और वित्तीय सेवाओं में सुधार हो सके।

यहां पर हम आप सभी को एक महत्वपूर्ण बात बता दें क्योंकि कम ही लोगों को यह पता है कि नवंबर 2011 में, स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना कार्यक्रम का नाम बदलकर दीनदयाल अंत्योदय योजना (DAY-NRLM) कर दिया गया।

दोस्तों अगर हम इस योजना को बहुत ही सरल भाषा में समझे तो यह deendayal antyodaya Yojana हमारे देश के गरीब नागरिकों के लिए हैं इस योजना के माध्यम से सरकार देश में स्थित अत्यधिक गरीबी को दूर करने में कार्य करेगी जैसे कि सरकार योजना के तहत कई ऐसी योजनाओं को लागू करेगी जो देश में रोजगार गरीबों की आय में वृद्धि और गरीबों की एक बेहतर जिंदगी बनाने में कार्यरत होगी. जैसे कि प्रधानमंत्री रोजगार योजना इस दीनदयाल योजना का एक बेहतर उदाहरण है

दोस्तों अगर सरल शब्दों में कहें तो इस योजना का उद्देश्य हमारे देश की जनता को बेहतर जीवन प्रदान करना है और साथ ही दोस्तों हम आपको बता दें इस deendayal antyodaya Yojana एक और नाम से भी जाना जाता है NRLM (National Rural Livelihoods Mission) जिसका हिंदी अर्थ है राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन और साथ में हमारे देश की शहरी लोगों के लिए इस योजना का नाम है NULM (National Urban Livelihoods Mission) राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन

deendayal antyodaya Yojana – NRLM Mission

गरीब परिवारों को सक्षम स्वरोजगार और कुशल वेतन रोज़गार के अवसरों तक पहुँच के लिए गरीब परिवारों को सक्षम करके गरीबी को कम करना, जिसके परिणामस्वरूप गरीबों के मजबूत जमीनी स्तर के संस्थानों के माध्यम से स्थायी रूप से उनकी आजीविका में सराहनीय सुधार हो सके

इसके अतिरिक्त NRLM ने स्व-प्रबंधित स्वयं सहायता समूहों (SHG) और महासंघों के माध्यम से हमारे देश के 600 जिलों, 6000 ब्लॉकों, 2.5 लाख ग्राम पंचायतों और 6 लाख गांवों में 7 करोड़ ग्रामीण गरीब परिवारों को शामिल करने के लिए एक एजेंडा बनाया है।

इसके अलावा, गरीबों को उनके अधिकारों, अधिकारों और सार्वजनिक सेवाओं, विविध जोखिम और सशक्तीकरण के बेहतर सामाजिक संकेतकों तक पहुंच बढ़ाने में मदद मिलेगी। एनआरएलएम देश की बढ़ती अर्थव्यवस्था में भाग लेने के लिए गरीबों की जन्मजात क्षमताओं का दोहन करने और उन्हें क्षमता (सूचना, ज्ञान, कौशल, उपकरण, वित्त और सामूहिकता) के साथ पूरक बनाने में विश्वास करता है।

deendayal antyodaya Yojana – NULM Mission

मिशन का उद्देश्य शहरी बेघरों को चरणबद्ध तरीके से आवश्यक सेवाओं से सुसज्जित आश्रय प्रदान करना होगा। इसके अलावा, मिशन उभरते बाजार के अवसरों तक पहुँचने के लिए शहरी सड़क विक्रेताओं के लिए उपयुक्त स्थानों, संस्थागत ऋण, सामाजिक सुरक्षा और कौशल तक पहुंच की सुविधा प्रदान करके शहरी सड़क विक्रेताओं की आजीविका संबंधी चिंताओं को भी दूर करेगा।

deendayal antyodaya Yojana Objectives (उद्देश्य)

NRLM का उद्देश्य गरीब परिवारों को सक्षम स्वरोजगार और कुशल मजदूरी रोजगार के अवसरों तक पहुंच के लिए सक्षम करके ग्रामीण गरीबी को कम करना है। मिशन का उद्देश्य 2024-25 तक 10-12 करोड़ ग्रामीण परिवारों को स्वयं सहायता समूहों में समयबद्ध तरीके से जुटाना है। मिशन को मजबूत सामुदायिक संस्थानों के निर्माण के माध्यम से गरीबों की आजीविका में एक स्थायी सुधार लाने के लिए डिज़ाइन किया गया है। मिशन का केंद्रीय उद्देश्य “ग्रामीण गरीबों के कुशल और प्रभावी संस्थागत प्लेटफार्मों की स्थापना करना है जो उन्हें आजीविका संवर्द्धन के माध्यम से घरेलू आय बढ़ाने और वित्तीय और सार्वजनिक सेवाओं में सुधार करने में सक्षम बनाते हैं”

NULM Guiding Principles

दीनदयाल अंत्योदय योजना-राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन (DAY-NULM) की मुख्य धारणा यह है कि गरीब उद्यमी हैं और गरीबी से बाहर आने की जन्मजात इच्छा रखते हैं। यह चुनौती सार्थक और स्थायी आजीविका उत्पन्न करने के लिए उनकी क्षमताओं को उजागर करने के लिए है। इस प्रक्रिया में पहला कदम शहरी गरीबों को अपनी संस्था बनाने के लिए प्रेरित करना है।

उन्हें और उनके संस्थानों को पर्याप्त क्षमता प्रदान करने की आवश्यकता है ताकि वे बाहरी वातावरण का प्रबंधन कर सकें, फाई नेंस का उपयोग कर सकें, अपने कौशल, उद्यमों और परिसंपत्तियों का विस्तार कर सकें। इसके लिए निरंतर और सावधानीपूर्वक डिज़ाइन किए गए हैंड होल्डिंग समर्थन की आवश्यकता होती है। एक बाहरी, समर्पित और संवेदनशील समर्थन संरचना, राष्ट्रीय स्तर से शहर और सामुदायिक स्तर तक, सामाजिक गतिशीलता, संस्था निर्माण और आजीविका संवर्धन के लिए आवश्यक है।

DAY-NULM का मानना है कि किसी भी आजीविका संवर्धन कार्यक्रम को समय-सीमा में गरीबों और उनके संस्थानों द्वारा संचालित किया जा सकता है। इस तरह के मजबूत संस्थागत मंच अपने स्वयं के मानव, सामाजिक, वित्तीय और अन्य परिसंपत्तियों के निर्माण में गरीबों का समर्थन करते हैं। यह बदले में, उन्हें उनकी एकजुटता, आवाज और सौदेबाजी की शक्ति को बढ़ाते हुए, सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों से अधिकारों, अधिकारों, अवसरों और सेवाओं तक पहुंच बनाने में सक्षम बनाता है।

NRLM Guiding Principles

गरीबों की जन्मजात क्षमताओं को उजागर करने के लिए गरीबों की सामाजिक गतिशीलता और मजबूत संस्थानों का निर्माण महत्वपूर्ण है।

सामाजिक लामबंदी, संस्था निर्माण और सशक्तिकरण प्रक्रिया को प्रेरित करने के लिए एक बाहरी समर्पित और संवेदनशील समर्थन संरचना की आवश्यकता होती है।

ज्ञान प्रसार, कौशल निर्माण, ऋण तक पहुंच, विपणन तक पहुंच, और अन्य आजीविका सेवाओं तक पहुंच उन्हें स्थायी आजीविका के पोर्टफोलियो का आनंद लेने में सक्षम बनाना।

Deendayal antyodaya yojana 2020 NRLM/NULM

deendayal antyodaya Yojana ELIGIBILITY

  • यह योजना शहरी और ग्रामीण दोनों गरीबों पर लक्षित है और इसमें 18 वर्ष से अधिक आयु के वे लाभार्थी शामिल हैं जो पहले के अजीजिका कार्यक्रम का हिस्सा थे।
  • आजीविका कार्यक्रम का भागीदार बनने के लिए व्यक्ति को भारतीय नागरिक होना अनिवार्य है
  • बेरोजगार व्यक्ति को ही इस योजना का अत्यधिक लाभ प्राप्त होगा

Deendayal antyodaya Yojana BENEFITS

डीएवाई का ग्रामीण घटक भारत के गांवों से 5-10 लाख युवाओं को प्रशिक्षित करना और उन्हें रोजगार के बेहतर अवसर उपलब्ध कराने के लिए कौशल प्रदान करना है। DAY का शहरी घटक सरकार द्वारा स्थापित सिटी लाइवलीहुड्स केंद्र में 5 लाख शहरी गरीबों को प्रशिक्षित करना है, जहां सरकार प्रशिक्षण कार्यक्रमों में प्रति व्यक्ति 15,000 / – रु खर्च करेगी। प्रत्येक समूह को 10,000 / – की प्रारंभिक राशि के साथ प्रदान किया जाएगा और पंजीकृत फेडरेशन को क्षेत्र स्तर पर 50,000 / – की राशि प्रदान की जाएगी।

Deendayal antyodaya Yojana APPLICATION Form (आवेदन)

तो दोस्तों योजना के बारे में इतना सब डिस्कस करने के बाद अब हम यहां पर जानेंगे की आप सभी deendayal antyodaya yojana के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे कर सकते हैं क्या योजना में ऑनलाइन फॉर्म भरा जा सकता है या फिर इस योजना में आवेदन करने की प्रक्रिया ऑफलाइन है

दोस्तों हम आप सभी को यहां पर बता दें की deendayal antyodaya yojana के ग्रामीण घटक (NRLM) मैं आवेदन करने के लिए फिलहाल अभी कोई भी प्रक्रिया नहीं है, लेकिन अगर कोई व्यक्ति शहरी क्षेत्र से है तो वह deendayal antyodaya yojana-NULM मैं ऑनलाइन आवेदन कार योजना का लाभ उठा सकता है।

1. योजना में आवेदन करने के लिए नीचे दी गई ऑनलाइन आवेदन लिंक पर क्लिक करके आप सीधे योजना के रजिस्ट्रेशन पेज पर पहुंच सकते हैं Online application form Link – Click Here

Deendayal antyodaya yojana 2020 NRLM/NULM

2. रजिस्ट्रेशन पेज पर पहुंच जाने के बाद आपको रजिस्ट्रेशन फॉर्म में मांगी गई सभी जानकारी भर देनी है जैसे कि मोबाइल नंबर, आपका पता, माता पिता का नाम, आप की जन्म तिथि, जाति आदि

3. रजिस्ट्रेशन फॉर्म में ऊपर बताई गई सभी जानकारी सही-सही भर देने के बाद आपको “Save & Sms” बटन पर क्लिक कर देना है इससे आपका फॉर्म आगे कार्यवाही के लिए सबमिट हो जाएगा

Note –  ध्यान रहे रजिस्ट्रेशन फॉर्म में मोबाइल नंबर भरते समय आपको अपने नंबर के आगे 0 नहीं लगाना है

Deendayal antyodaya Yojana (NRLM) की मुख्य विशेषताएं

1. सर्वव्यापी सामाजिक जागरण: आरंभ में एनआरएलएम यह सुनिश्चित करेगा कि प्रत्येक निर्धारित ग्रामीण गरीब परिवार से कम से कम एक सदस्य विशेषकर महिला सदस्य को समयबद्ध ढंग से स्वसहायता समूह नेटवर्क में लाया गया है। इसके बाद महिला और पुरूष दोनों को आजीविका संबंधी मामलों अर्थात कृषक संगठन, दूध उत्पादक सहकारी संगठन, बुनकर संघ आदि, का समाधान करने के लिए संगठित किया जाएगा। सभी संस्थाएं समावेशी हैं और उनमें से किसी गरीब को नहीं छोड़ा जाएगा। एनआरएलएम समाज के दुर्बल वर्गों का पर्याप्त कवरेज सुनिश्चित करेगा जिससे कि बीपीएल परिवारों के शत-प्रतिशत कवरेज के अंतिम लक्ष्य के मद्देनजर 50 प्रतिशत लाभार्थी महिलाएं, 45 प्रतिशत लाभार्थी अल्पसंख्यक और 3 प्रतिशत लामार्थी अपंग व्यक्ति में से हो।

2. प्रशिक्षण, क्षमता निर्माण और कौशल निर्माण: एनआरएलएम यह सुनिश्चित करेगा कि गरीबों को निम्नलिखित के लिए पर्याप्त कौशल उपलब्ध कराएगा: अपनी संस्थाओं का प्रबंधन करना, बाजार के साथ संपर्क स्थापित करना, मौजूदा आजीविका का प्रबंधन करना, उनकी ऋण उपयोग क्षमता तथा ऋण साख बढाना। लक्षित परिवारों, स्व-सहायता समूहों, उनके परिसंघों, सरकारी कर्मियों, बैंकरों, गैर-सरकारी संगठनों और अन्य मुख्य स्टेकहोल्डरों के लिए बहु-सूत्रीय दृष्टिकोण की संकल्पना की गई है। स्व-सहायता समूहों और उनके परिसंघों तथा अन्य समूहों के क्षमता निर्माण के लिए सामुदायिक पेशेवरों और सामुदायिक संसाधन व्यक्तियों को कार्य में लगाने पर विशेष ध्यान केन्द्रित किया जाएगा। एनआरएलएम ज्ञान-प्रसार और क्षमता निर्माण को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए आईसीटी का व्यापक उपयोग करेगा।

3. परिक्रामीनिधि और पूंजीगत सब्सिडी: सब्सिडी परिक्रामी निधि और पूंजीगत सब्सिडी के रूप में उपलब्ध होगी। स्वसहायता समूहों (जहाँ 70 प्रतिशत से अधिक सदस्य बीपीएल परिवारों में से हैं) को प्रोत्साहन राशि के रूप में परिक्रामी निधि उपलब्ध करायी जाएगी ताकि वे बचत की आदत बना सकें तथा अपनी दीर्घकालीन ऋण आवश्यकताओं तथा उपभोग संबंधी अल्पकालीन आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए निधियां संचित कर सके। सब्सिडी समूह के रूप में होगी और सदस्यों की ऋण संबंधी आवश्यकताएं पूरी करने के लिए और बैंक वित्तपोषण को लाभ लेने के लिए प्रेरक पूंजी के रूप में होगी। गरीबी से बाहर आने के लिए युक्तिसंगत दरों पर वित्त की सतत एवं सहज उपलब्धता आवश्यकता है जबकि वे बड़ी मात्रा में अपनी निधियां संचित न कर ले।

4. सर्वव्यापी वित्तीय समावेशन: एनआरएलएम सभी गरीब परिवारों, स्वस॒हायता समूहों के अतिरिक्त सर्वव्यापी वित्तीय समावेशन हासिल करने के लिए कार्य करेगा। एनआरएलएम वित्तीय समावेशन के मांग एवं आपूर्ति पक्ष से संबंधित कार्य करेगा। मांग पक्ष की ओर यह गरीबों के बीच वित्तीय साक्षरता को बढावा देगा और स्वसहायता समूहों एवं उनके परिसंघों को प्रेरक पूंजी उपलब्ध कराएगा। आपूर्ति पक्ष की ओर यह वित्तीय क्षेत्र के साथ समन्वय करेगा तथा सूचना, संचार एवं प्रौद्योगिकी (आईसीटी) आधारित वित्तीय प्रौद्योगिकियों, बिजनेस कॉरसपोन्डेंट एवं सामुदायिक सुविधादाता यथा – बैंक मित्र के उपयोग को प्रोत्साहित करेगा। यह मृत्यु, स्वास्थ्य एवं परिसंपत्तियों के नष्ट होने की स्थिति में ग्रामीण गरीब के सर्वव्यापी कवरेज के लिए

5. कौशल एवं नियोजन परियोजनाएं: एनआरएलएम साझेदारी रीति के जरिए कौशल उन्नयन एवं नियोजन परियोजनाएं जारी रखेगा क्योंकि यह युवाओं में उत्तम निवेश में से एक है और उभरते बाजारों में आजीविका अवसरों को प्रोत्साहन देता है। इसे सुदृढ़ करने के लिए सार्वजनिक, निजी, गैर-सरकारी और सामुदायिक संगठनों के साथ साझेदारी के विभिन्‍न मॉडल बनाए जाएंगे। औद्योगिक परिसंघों तथा क्षेत्र विशिष्ट कर्मचारी संघों के साथ संबंधों को मजबूत किया जाएगा। इस प्रयास में राष्ट्रीय कौशल विकास निगम (एनएसडीसी) प्रमुख सहभागी होगा। एनआरएलएम के तहत केन्द्रीय आबंटन का 45 प्रतिशत इस उद्देश्य के लिए नियत किया गया है।

6. नई पहलें: एनआरएलएम के अनुसार, नई पहलों से निर्धघनता को दूर करने के कई मार्ग प्रशस्त होंगे। केन्द्रीय आबंटन का 5 प्रतिशत नई पहलों के लिए नियत किया जाता है। वे परिपूर्ण समाधान होने चाहिए और उनमें निर्धनों के आजीविका संगठनों को जानकारी उपलब्ध कराने एवं उनके क्षमता निर्माण का स्पष्ट अधिदेश निहित होना चाहिए। ऐसी पहलें अपनाई जानी चाहिए जिनसे निर्धनतम लोगों अथवा अधिक से अधिक गरीब लोगों को लाभ मिले और सीमित स्रोतों से अधिकतम प्रभाव पड़े।

7. निगरानी तथा शिक्षण: एनआरएलएम द्वारा वेब आधारित समीक्षा समिति (समितियों) की नियमित बैठकों; वरिष्ठ सहकर्मियों, स्थानीय, जिला, राज्य एवं राष्ट्रस्तरीय निगरानी समूहों द्वारा दौरों और समीक्षा एवं आयोजना मिशनों की व्यवस्था के माध्यम से अपने परिणामों, प्रक्रियाओं तथा कार्यकलापों की मॉनीटरिंग की जाएगी। प्रक्रिया निगरानी अध्ययनों, विषयात्मक अध्ययनों तथा प्रभाव संबंधी मूल्यांकनों से उपर्युक्त में सहायता मिलेगी। इससे और अधिक पारदर्शिता लाने के लिए सामाजिक जवाबदेही प्रक्रियाओं को प्रोत्साहन मिलेगा। यह एलआरएलएम तथा राज्य सरकारों द्वारा विकसित तंत्रों के अलावा होगा।

8. एनआरएलएम की कार्यसूचीः एनआरएलएम के अंतर्गत देश के 6.0 लाख गांवों की 2.5 लाख पंचायतों के 6000 ब्लॉकों में 7.0 करोड़ बीपीएल परिवारों के स्व-संचालित एसएचजी एवं उनके संघीय संस्थानों एवं आजीविका प्रयोजनों के लिए सहायता प्रदान करने का लक्ष्य रखा गया है। एनआरएलएम के तहत उन्हें दीर्घकालिक तथा गरीबी दूर करने के उनके प्रयासों में सहायता दी जाएगी | इसके अलावा, निर्धनों को उनके अधिकारिता के बारे में जागरूक किया जाएगा। न केवल लाभार्थियों बल्कि कार्यक्रम अधिकारियों एवं स्टॉफ, सामुदायिक पेशेवरों, संबंधित सरकारी कर्मचारियों आदि, एनजीओ, पंचायती राज संस्थाओं के कार्यकर्त्ताओं आदि सहित सभी अन्य स्टेकहोल्डरों के प्रशिक्षण एवं क्षमता निर्माणके लिए उपयोग की जाती है। एक्सपोजर दौरों तथा इमर्शन दौरों पर व्यय को भी इस घटक के तहत कवर किया जाना है। उल्लिखित कौशल प्रशिक्षण से तात्पर्य स्वरोजगार के लिए सदस्य स्तरीय प्रशिक्षण से है तथा यह रोजगार -समबद्ध कौशल प्रशिक्षण से अलग है।

For More: योजना के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए योजना की ऑफिशियल डॉक्यूमेंट पर जाएं: Yojana Daucoment PDF – Click Here

Reference: aajeevika.gov.in

MORE  प्रधान मंत्री प्रवासी तीर्थ दर्शन योजना 2019 - NRI के लिए सरकार द्वारा प्रायोजित तीर्थ पर्यटन

1 thought on “Deendayal antyodaya yojana 2020 NRLM/NULM”

  1. Deendayal antyodaya yojana ka labh kaise le aur kaun si scheme chal rahi hai kaise Jane kahan per sampark Karen

    Reply

Leave a Comment