close button





School Nursery Yojana 2022 स्कूल नर्सरी योजना आवेदन ऑनलाइन

pm modi school nursery yojana | स्कूल नर्सरी योजना ऑनलाइन | school nursery yojana launch date | pradhan mantri free education yojana | pradhan mantri yojana for school students | nursery school scheme upsc | Govt school yojana

भारत की केंद्र सरकार द्वारा School Nursery Yojana को पूरे देश में लागू किया गया है स्कूल नर्सरी योजना छात्रों को प्रकृति से जोड़ने की सरकार की बड़ी पहल है यहाँ हम देखेंगें योजना के तहत, स्कूलों के लिए अनुदान ,केंद्र सरकार की योजना कक्षा 6-9 के छात्रों के लिए, योजना की विशेषताएं, उद्देश्य, स्कूल नर्सरी योजना रजिस्ट्रेशन एवं आवेदन की पूरी जानकारी आदि इसलिए गर आप भी इस योजना के बारे मैं जानना चाहते हैं तो इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

School Nursery Yojana 2022

हम जानते हैं कि औद्योगिकीकरण एवं शहरीकरण ने पर्यावरण को दूषित बना दिया है। उद्योगों से बहुत सारी विषैली गैसें उत्पन्न होती हैं जो वायु प्रदूषण में वृद्धि करती हैं। इसका मानव व जलीय वातावरण पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।  पेड़ों और पहाड़ों की लगातार कटाई होती है, वर्षा की कमी से नदियां – नाले  सूख जाते हैं। विगत कुछ वर्षों से ग्रामीण जनता तेजी से शहरों की ओर पलायन कर रही है।

साथ ही जनसंख्या लगातार बड़ती जा रही है। अब बच्चों के खेलने की जगहें कम हो गई है। पेड़ – पौधों  की संख्या कम हो गई है, वन संसाधन कम हो रहे हैं और इसका असर जलवायु पर साफ देखा जा रहा है। प्रदूषण का स्तर बड़ने से बीमारियां भी बढ़ रही हैं।

स्कूल नर्सरी योजना क्या है? 

प्रदूषण से निबटने के लिए भारत सरकार ने कई योजनाएं बनाई हैं। अब सरकार एक नई स्कीम लाई है जिसमें स्कूलों को भी शामिल किया गया है। बच्चों को पढाई के साथ-साथ पेड़-पौधों की देखभाल और विकास की कला सीखने का मौका दिया गया है। 

स्कूल नर्सरी योजना भारत सरकार के वन, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन मन्त्रालय द्वारा कक्षा 6 से 9 तक के छात्रों के लिए स्कूलों में शुरू की गई है।

School Nursery Yojana Highlights

योजना का नामस्कूल नर्सरी योजना 
किसने लांच कीकेंद्र सरकार ने
द्वारा कार्यान्वित पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय
घोषणा की तारीख 2015
लाभार्थीकक्षा 6 – 9 के विद्यार्थी 

स्कूल नर्सरी योजना का उद्देश्य

छात्रों को प्रकृति तथा ग्लोबल वार्मिंग का ज्ञान देना। पेड़-पौधों के महत्व और उनको लगाने की प्रक्रिया सिखाना।पर्यावरण के विभिन्न पहलुओं के बारे में जागरूक करना

पर्यावरण में औद्योगिकीकरण एवं नगरीकरण के कारण हानिकारक घटकों का प्रवेश हो जाता है जिससे पर्यावरण दूषित हो जाता है जो मनुष्य तथा जीव-जन्तुओं के लिए अत्यधिक नुकसानदायक होता है। पर्यावरण प्रदूषण को कम करने और उसे सतुंलित बनाने में सरकार नागरिकों से भी मदद की अपेक्षा करती है। हर जिले में सरकार लाखों की संख्या में प्रतिवर्ष पौधे लगाती है और वृक्षारोपण करती है। इसके साथ ही स्कूल के छात्र-छात्राओं को पेड़-पौधों और साफ पर्यावरण की व्यवहारिक शिक्षा देकर उन्हें भविष्य में प्रदूषण और ग्लोबल वार्मिंग को नियंत्रण में रखने के लिए तैयार कर रही है।

School Nursery Yojana Features:

  • School Nursery Yojana 5 साल के लिए प्रायोगिक आधार पर शुरू की गई है। 
  • स्कूल नर्सरी योजना के तहत छात्र-छात्राओं को पौधारोपण की कला सिखाई जाती है। पौधशाला की स्थापना और उनके रख-रखाव के गुर सिखाए जाते हैं। 
  • साथ ही पादप बीजों के अकुंरण और विकास की प्राकृतिक प्रक्रिया समझाई जाती है। 
  • स्कूलों से स्कूल नर्सरी योजना से जुडने के लिए आवेदनपत्र मांगे जाते हैं। इनमें से चुनिंदा विद्यालयों को शामिल किया जाता है। ये लीड स्कूल दूसरे स्कूलों को नर्सरी लगाने में मदद करते हैं। 
  • स्कूलों के पास 100 वर्ग मीटर की खुली जगह होना जरूरी है जिस पर 1000 पौधे लगाए जा सकें। 
  • आरम्भ से ही प्रत्येक छात्र को कम से कम एक पौधे की देखभाल की जिम्मेदारी दी जाती है। 
  • स्कूल नर्सरी के लिए अनुदान National CAMPA Advisory Council (NCAC) द्वारा दिया जाता है।
  • राज्यों की राज्य CAMPA कमेटी ( Compensatory Afforestation Fund Management and Planning Authority) अपने- अपने राज्य के प्रोजेक्ट प्रपोजल सबमिट करती है। 
  • अनुदान राशि साल 2016-17 में 3.50 करोड से बढकर 2019-20 में 4.50 करोड़ हो गई है। 
  • प्रथम वर्ष में 1000 विदधालय चुने गए जिन्हें 25000 रुपए का अनुदान दिया गया। प्रोग्राम ठीक से चलाने पर अगले दो सालों में 10,000 रूपये नर्सरी के रख-रखाव के लिए दिए जाते हैं। चौथे साल से स्कूलों को नर्सरी चलाने के लिये आत्मनिर्भर होना होता है। 
  • अनुदान राशि से स्कूल नर्सरी बेड, जल व्यवस्था, पाइप, मिट्टी, पात्र पोली बैग जैसी आवश्यक चीजें खरीद सकते हैं। 
  • योजना के अन्तर्गत स्कूलों में छात्रों द्वारा नर्सरी ठीक से लगाई गई है कि नहीं और इसका ध्यान रखा जाता है। इस जांच के लिए यूनिट Forest Policy Division से Project Manager को नियुक्त किया जाता है। 

Eligibility Criteria for Schools and Students:

  • कक्षा 6-9 के सब विधार्थी इस योजना में भाग ले सकते हैं। 
  • विदधालय के पास कम से कम 100 वर्ग मीटर का खुला क्षेत्र होना जरुरी है जिसमें पौधशाला लगाई जा सके। 
  • जो स्कूल अपने परिसर पर Eco Club चला रहे हैं उन्हें  योजना में शामिल होने के लिए प्राथमिकता मिलेगी। 
  • स्कूल प्रिन्सिपल को एक लिखित सहमति देनी होगी कि वे कम से कम 5 वर्ष तक पौधशाला की उचित देखभाल करने की जिम्मेदारी लेते हैं। 
  • स्कूलों के पास या तो जल पुनर्चक्रण सुविधा होना आवश्यक है। वर्षा जल संचयन मशीनों को लागू किया जाना चाहिए और अपशिष्ट जल के पुनर्चक्रण और पुनः उपयोग की सुविधाएं आरम्भ करनी चाहिए। 
  • योजना में रूचि रखने वाले स्कूलों को आवेदनपत्र उपवन संरक्षण (DCF) या प्रभागीय वनाधिकारी (DFO) के कार्यालय में सब्मिट करना होगा। 

छात्रों को स्कूल नर्सरी प्रशिक्षण एवं लाभ :

  • स्कूल प्राधिकरण की जिम्मेदारी बनती है कि वे नर्सरी कला को जीवविज्ञान पाठ के व्यवहारिक रूप की तरह पढाएं और छात्रों को इसमें रूचि लेने के लिए प्रोत्साहित करें। 
  • इसी लक्ष्य को ध्यान में रखकर स्कूल अथॉरिटी छात्रों को आस-पास के पार्कों एवं उद्यानों के भ्रमण के लिए ले जाती हैं। यह भ्रमण उन्हें प्रकृति के करीब लाने में सहायक होते हैं। 
  • स्कूल प्राधिकरण छात्रों को लागबुक में पौधों के विकास की प्रक्रिया के बारे में लिखने में सहयोग सकते हैं। छात्र बीज अकुंरण की अवधि का अवलोकन कर लाग बुक में नोट करते हैं। 
  • छात्र सीखते हैं कैसे बीज अकुंरण के लिए विभिन्न स्थितियों को पूरा करना पौधों के विकास के लिए अत्यंत जरूरी होता है। जैसे उचित मात्रा में पानी, तापमान, प्रकाश एवं आक्सीजन। 
  • छात्रों को बीज इकट्ठा करने में शिक्षक और नर्सरी कार्यकर्ता प्रशिक्षित करते हैं। वे सीखते हैं कैसे बीजों को सुखाया जाता है और उन्हें कैसे बोया जाता है। उन्हें पौधों में ग्राफटिगं की प्रक्रिया सिखाई जाती है और इसके लाभों के बारे में जानकारी दी जाती है। 
  • साफ और संतुलित पर्यावरण के फायदे के बारे में सिखाया जाता है। 

School Nursery Yojana Registration

अगर कोई भी जो इस School Nursery Yojana का लाभ उठान सहता है उसे इस स्कूल नर्सरी योजना के लिए अनलाइन आवेदन करना होगा लेकिन फिलहाल सरकार ने अनलाइन आवेदन करने के लिए कोई website / portal की शुरुआत नहीं की है सरकार इसे अभी केंद्र एवं राज्य स्तर पर इम्प्लमेन्ट करेगी बाद में योजना को छोटे स्तर पर लागू किया सकता है लेकिन फिलहाल अभी इस योजना में ऑनलाइन आवेदन करने की आपको कोई भी जरूरत नहीं है।

Follow Us On Social Media 🙏 🔔

Google News Follow
Twitter Follow
Facebook Follow
Koo AppFollow
InstagramFollow
TelegramFollow

Leave a Comment