[Registartion] mukhyamantri hastshilp pension yojana UP 2020

Uttar Pradesh Govt. की मुख्यमंत्री हस्तशिल्प पेंशन योजना (Mukhyamantri Hastshilp Pension Yojana) राज्य के हस्तशिल्प कारीगरों के लिए मुख्यमंत्री जी द्वारा शुरू की गई है सरकार की Chief Minister Handicrafts Pension Scheme online Apply / Registration केसे करें, योजना के लिए assistance amount कितना है ओर Scheme Eligibility Criteria के बारें मैं पूरी जानकारी

उत्तर प्रदेश राज्य सरकार की यह मुख्यमंत्री हस्तशिल्प पेंशन योजना राज्य के हस्तशिल्प कारीगरों के लिए बड़ी ही महत्वपूर्ण है इस योजना के चलते हैं राज्य में हस्तशिल्प कारीगरों को पेंशन राशि प्रदान की जाएगी जिससे कि वह अपनी कला को और मजबूती से आगे बढ़ा सकें

Mukhyamantri Hastshilp Pension Yojana

हालांकि यह योजना उत्तर प्रदेश सरकार की “हस्तशिल्प कौशल विकास प्रशिक्षण योजना” के अंतर्गत ही आती है हस्तशिल्प कौशल विकास प्रशिक्षण योजना में लोगों को हस्तशिल्प कला का प्रशिक्षण और टूल किट प्रदान की जाती है और Mukhyamantri Hastshilp Pension Yojana के अंतर्गत ऐसी कारीगरों को पेंशन प्रदान की जाती है जो कि अपनी हस्तशिल्प कला का उपयोग करके जीवन यापन नहीं कर पा रहे हैं

Mukhyamantri Hastshilp Pension Yojana 2020

उ.प्र. सरकार के जिला उद्योग एवं उद्यम प्रोत्साहन विभाग द्वारा हस्तशिल्पियों के जीवन स्तर व उनकी आर्थिक स्थिति में गुणात्मक सुधार लाने के लिए और इसके अलावा पारम्परिक कलाओं को अक्षुण्य बनाये रखने हेतु हस्तशिल्प पेंशन योजना लागू की गई है।

उत्तर प्रदेश सरकार की इस Mukhyamantri Hastshilp Pension Yojana के अन्तर्गत चयनित हस्तशिल्पियों को पेंशन के रूप में 500 रूपये की सहायता राशि प्रतिमाह दी जायेगी।

MORE  UP Police Result 2018 ऐसे देखें uppbpb.gov.in से मोबाइल / PC पर

योजना के कार्यान्वयन में मुख्यमंत्री हस्तशिल्प पेंशन योजना की प्रथम इकाई जिला होगी यानी कि जिला स्तर पर इस योजना को लागू किया जाएगा तथा धनराशि कम होने की स्थिति में शारीरिक रुप से अक्षम तथा अधिक आयु के हस्तशिल्पियों को वरीयता प्रदान की जायेगी।

राज्य के लोग मुख्यमंत्री हस्तशिल्प पेंशन योजना से प्राप्त सहायता राशि का उपयोग विलुप्त होती जा रही कलाओं को और आगे बढ़ाने में अपना योगदान दे सकते हैं ज्यादातर ऐसी हस्तशिल्प कलाएं है जो विलुप्त होती जा रही हैं क्योंकि आजकल के इस दौर में इन हस्तशिल्प कारीगरों द्वारा बनाई गई वस्तुओं को कोई नहीं खरीदता है इससे यह कलाएं समाप्त होती जा रही हैं ऐसी ही कलाओं को विलुप्त होने से बचाने के लिए सरकार जिला स्तर पर चुने गए हस्तशिल्प कारीगरों को पेंशन राशि प्रदान करेगी

Mukhyamantri Hastshilp Pension Yojana Registration

जैसा कि दोस्तों हमने आप सभी को बताया यही योजना क्या है और इसके अंतर्गत कितनी सहायता राशि यानी की पेंशन हस्तशिल्प कारीगरों को प्रदान की जाती है अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर हम इस योजना के भागीदार कैसे बन सकते हैं

यानी कि मुख्यमंत्री हस्तशिल्प पेंशन योजना में कैसे रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं तो हम आप सभी को बता दें फिलहाल इस योजना में ऑनलाइन आवेदन करने की कोई भी प्रक्रिया सरकार के उद्यम एवं प्रोत्साहन विभाग की अधिकारिक अधिकारिक diupmsme.upsdc.gov.in/ पर उपलब्ध नहीं है

हालांकि आप उत्तर प्रदेश सरकार की उद्योग एवं उद्यम प्रोत्साहन विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर हस्तशिल्प कौशल विकास प्रशिक्षण योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं लेकिन अगर आप मुख्यमंत्री हस्तशिल्प पेंशन योजना का लाभ उठाना चाहते हैं तो आपको इसके लिए कहीं पर भी ऑनलाइन आवेदन करने की आवश्यकता चुने गए कार्यों को स्वता ही योजना में शामिल कर लिया जाएगा या फिर आप हेल्पलाइन नंबर 1800 1800 888 पर भी कॉल कर सकते हैं

MORE  UP Bal Shramik Vidya Yojana 2020 Registration Form

Handicrafts Pension Scheme Required Documents

योजना का लाभ लेने के लिए आपके पास कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज होने भी जरूरी है तभी आप योजना का लाभ ले पाएंगे नीचे योजना के लिए आवश्यक दस्तावेजों की सूची दी हुई है:

  • Aadhar Card
  • Bank Passbook
  • निवास प्रमाण पत्र
  • ऐसा प्रमाण पत्र जो कुशल कारीगर श्रेणी दर्शाता हो
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • Disability certificate (अगर आवेदक दिव्यांग श्रेणी में आता है)

Mukhyamantri Hastshilp Pension Yojana Eligibility

  • योजना में पात्रता हेतु हस्तशिल्पी का भरण पोषण उसकी शिल्पकला पर आधारित हो
  • हस्तशिल्पियों की न्यूनतम आयु 60 वर्ष या इससे अधिक हो।
  • विकलांग एवं महिला शिल्पकार होने की स्थिति में न्यूनतम आयु सीमा में पांच वर्ष की छूट अनुमन्य है।
  • आवेदक या इकाई किसी भी राष्ट्रीयकृत बैंक/वित्तीय संस्था/सरकारी संस्था का डिफाल्टर नहीं होना चाहिए।
  • आवेदक हस्तशिल्पियों के पास विकास आयुक्त (हस्तशिल्प), वस्त्र मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा निर्गत हस्तशिल्प पहचान पत्र (Artificial Card) होना आवश्यक है।
  • शिल्पकार के परिवार की वार्षिक आय एक लाख रूपये से अधिक नहीं होनी चाहिए
  • आवेदक अथवा उसके परिवार के किसी भी सदस्य को योजनान्तर्गत केवल एक बार ही लाभान्वित किया जाएगा।
  • शिल्पकार सरकारी/गैरसरकारी/अर्द्धसरकारी/एन0जी0ओ0/निजी संगठनों में नियमित वेतन भोगी कर्मचारी नहीं होना चाहिए।
  • हस्तशिल्पी को एक ही प्रकार की पेंशन योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा।
  • अगर हस्तशिल्प राज्य सरकार एवं भारत सरकार किसी अन्य पेंशन योजना का लाभ ले रहा है तो वह इस योजना का लाभ नहीं ले पाएगा
  • योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए हस्तशिल्प कारीगर चार पहिया वाहन का मालिक नहीं होना चाहिए

मुख्यमंत्री हस्तशिल्प पेंशन योजना सहायता राशि

MORE  One district one product List UP 2020 [ODOP Yojana]

राज्य के हस्तशिल्प के लिए हस्तशिल्प पेंशन योजना संचालित है। इस योजना के तहत चयनित हस्तशिल्पियों को प्रति माह 500 रुपये पेंशन देने का प्रावधान है। योजना में पात्रता के लिए हस्तशिल्प की पूर्ति उसकी शिल्पकला के आधार पर की जती है।

हस्तशिल्प कारीगर अगर दिव्यांग एवं अधिक आयु की श्रेणी में आता है तो उसे मुख्यमंत्री हस्तशिल्प पेंशन योजना के अंतर्गत धनराशि कम होने की स्थिति में वरीयता भी प्रदान की जाएगी

दूसरों के साथ शेयर करें

Leave a Comment

Enable referrer and click cookie to search for pro webber