जीवन जीने की कला है योग: Best 3 Yoga Asanas For Everyday

Yoga is The Art of Living: योग जीने की कला है, बीमारी होने पर अगर आप योग को दवा के साथ-साथ अपनाते हैं तो आपको जल्दी स्वास्थ्य लाभ मिल सकता है। योग जीवन जीने की कला है, इसे अपनाकर हम अपने शरीर को स्वस्थ रख सकते हैं। योग जीने की कला है, बीमारी होने पर अगर आप योग को दवा के साथ अपनाते हैं तो आपको शीघ्र स्वास्थ्य लाभ मिल सकता है। योग जीवन जीने की कला है, इसे अपनाकर हम अपने शरीर को स्वस्थ रख सकते हैं।

सामान्य प्रोटोकॉल के अनुसार सुबह के समय स्वयंसेवी संस्थाओं के साथ योगाभ्यास किया जा रहा है, जिसमें ओम के जाप के साथ योगाभ्यास की शुरुआत की जाती है और योग के अंत में, “हमें अपने मन को हमेशा संतुलित रखना है, हमारा आंतरिक विकास होता है। उसमें निहित है।

तर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022:

Best 3 Yoga Asanas for Everyday

लंबे समय तक काम पर उत्पादक बने रहना मुश्किल हो सकता है। इन सर्वोत्तम और सरल योग आसनों को आजमाएं जिनका अभ्यास आप अपने ऊर्जा स्तर और उत्पादकता को बढ़ाने के लिए कार्यस्थल पर कर सकते हैं।

हर साल 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है। हम इस वर्ष अपने ऊर्जा स्तर को बढ़ाने पर योग के लाभों पर चर्चा करेंगे। ऊर्जा में वृद्धि से उत्पादकता तुरंत बढ़ जाती है।

हम इस लेख में शुरुआती स्तर के योग के बारे में चर्चा करते हैं जो तुरंत ऊर्जा को बढ़ावा देते हैं। इस तरह के पोज़ काम के दौरान किए जा सकते हैं और इससे आपकी उत्पादकता बढ़ेगी। योग के साथ काम पर अपने प्रदर्शन को बेहतर बनाने का तरीका जानें।

सर्वश्रेष्ठ 3 योगासन जो आपकी ऊर्जा और उत्पादकता को बढ़ाएंगे:

1. अधो मुख संवासन / डाउनवर्ड फेसिंग डॉग पोज

Adho Mukha Svanasana

अधो मुख संवासन योग विज्ञान का एक बहुत ही महत्वपूर्ण आसन है। योग गुरु और योग शिक्षक पहले उन लोगों को सिखाते हैं जो इस योग आसन का अभ्यास करना चाहते हैं। अधो मुख संवासन पूरे शरीर को अच्छा खिंचाव और ताकत देता है।

जैसे डॉक्टर दिन में एक सेब खाकर घर नहीं आते। इसी तरह प्रतिदिन नीचे की ओर मुख करके सांस लेने की मुद्रा का अभ्यास करने से डॉक्टर और रोग आपसे दूर रहते हैं। इस आसन का अभ्यास करने से आप तनाव, चिंता, अवसाद और अनिद्रा जैसी समस्याओं से भी दूर रहते हैं।

How To Relax In 10 Minutes Best Relaxation Techniques

अधो मुख संवासन करने की विधि:

  1. योगा मैट पर पेट के बल लेट जाएं। 
  2. सांस भरते हुए शरीर को पैरों और हाथों पर उठाएं और टेबल जैसी आकृति बनाएं। 
  3. सांस छोड़ते हुए धीरे-धीरे कूल्हों को ऊपर की ओर उठाएं। 
  4. अपनी कोहनियों और घुटनों को टाइट रखें। 
  5. सुनिश्चित करें कि शरीर एक उल्टा ‘वी’ आकार बनाता है। 
  6. इस आसन के अभ्यास के दौरान कंधे और हाथ एक सीध में रहने चाहिए। 
  7. पैर कूल्हों के अनुरूप होंगे। ध्यान रखें कि आपकी एड़ियां बाहर की तरफ रहेंगी। 
  8. अब हाथों को नीचे जमीन की तरफ दबाएं।
  9.  गर्दन को लंबा करने की कोशिश करें।
  10. अपने कानों को अपने हाथों के अंदरूनी हिस्से को छूते रहें।
  11. अपनी दृष्टि नाभि पर केंद्रित करने का प्रयास करें।
  12. कुछ सेकंड के लिए रुकें और उसके बाद घुटनों को जमीन पर टिका दें।
  13. फिर से टेबल पोजीशन में आ जाएं। 

2. पादहस्तासन (आगे की ओर झुकना)

Padahastasana

संस्कृत में, इसे पादहस्तासन या standing forward bend के रूप में जाना जाता है। काम के दौरान इस पोस का अभ्यास करना आसान है। इसका मकसद ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाने के साथ-साथ मसल्स को स्ट्रेच करना है। ये दोनों गतिविधियाँ ऊर्जा के स्तर को बढ़ाती हैं। पादहस्तासन करने के लिए इन चरणों का पालन करें:

पादहस्तासन करने की विधि :

  1. सीधे खड़े हो जाओ
  2. अब धीरे-धीरे आगे की ओर झुकें
  3. इसका उद्देश्य अपने शरीर को आधा मोड़ना और अपनी हथेलियों को जमीन पर रखना है।
  4. यदि आप पर्याप्त रूप से झुक नहीं सकते हैं, तो अपने पैर की उंगलियों को छूना भी पर्याप्त हो सकता है। जैसा कि ऊपर चर्चा की गई है, इस स्थिति को संशोधित किया जा सकता है। इसलिए, अपने हाथों को जितना हो सके फर्श की ओर ले जाना पर्याप्त और मददगार है।
  5. इस बिंदु पर, आपका चेहरा आपके पैरों का सामना करना चाहिए (आपके सिर के ऊपर फर्श का सामना करना पड़ रहा है)
  6. इसे छोटे-छोटे अंतराल में कुछ बार दोहराएं

3. बालासन (बच्चे की मुद्रा)

Balasana

योग करने के बाद एक ऐसी अवस्था आती है जब योगी को विश्राम की आवश्यकता होती है। ऐसी अवस्था में योगी विश्राम पाने और शरीर की थकान को दूर करने के लिए बालासन का अभ्यास करते हैं। बालासन न केवल शुरुआती लोगों के लिए बल्कि सभी स्तरों के योगियों के लिए भी सबसे अच्छा आसन है। 

बालासन करने की विधि :

  1. योग मैट पर अपने घुटनों के बल बैठ जाएं। 
  2. दोनों टखनों और टखनों को आपस में स्पर्श करें।
  3. जितना हो सके अपने घुटनों को धीरे-धीरे बगल की तरफ फैलाएं। 
  4. गहरी सांस लें और आगे की ओर झुकें।
  5. पेट को दोनों जाँघों के बीच में लेकर साँस छोड़ें। 
  6. कमर के पीछे त्रिकास्थि को चौड़ा करें।
  7. अब कूल्हे को सिकोड़ते हुए इसे नाभि की ओर खींचने की कोशिश करें। 
  8. भीतरी जाँघों या भीतरी जाँघों पर स्थिर हो जाएँ। 
  9. सिर को गर्दन से थोड़ा पीछे उठाने की कोशिश करें। 
  10. टेलबोन को श्रोणि की ओर खींचने की कोशिश करें। 
  11. हाथों को सामने लाकर अपने सामने रख लें। 
  12. दोनों हाथ घुटनों की रेखा में रहेंगे। 
  13. दोनों कंधों को फर्श से छूने की कोशिश करें। 
  14. आपके कंधों के खिंचाव को कंधे के ब्लेड से पीछे की ओर महसूस किया जाना चाहिए। 
  15. इस स्थिति में 30 सेकंड से कुछ मिनट तक रहें। 
  16. सामने के धड़ को धीरे-धीरे खींचते हुए सांस लें। 
  17. श्रोणि को नीचे झुकाते हुए पूंछ की हड्डी को ऊपर उठाएं और सामान्य स्थिति में लौट आएं।

Follow Us On Social Media 🙏 🔔

Google News Follow
Twitter Follow
Facebook Follow
Koo AppFollow
InstagramFollow
TelegramFollow

Leave a Comment

Top 10 Hindi Black and White Movies Top 10 Bollywood Dandiya & Garba Songs Navratri Special Top 10 serials in Hindi (2022) POCO F4 5G कितना है Price, फीचर्स भी हैं जबरदस्त JioPhone Next 2022 में कितना है Price, क्या हैं फीचर्स देखें