WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Page Join Now

वैज्ञानिकों ने खोजा मंगल ग्रह का छिपा हुआ राज (Red Planet)

Red Planet Mars: हम सब नए युग मैं जी रहे हैं आज का ये समय आधुनिक टेक्नॉलजी का है हर समय दुनिया मैं कहीं न कहीं नए नए प्रयोग हो रहे हैं ओर नई चीजों की खोज जारी है एसे मैं वैज्ञानिकों ने हाल ही मैं मंगल गृह के बारे मैं एक नई रेसर्च जारी की है जिसके बारे मैं आज हम आपको बताने वाले हैं दोस्तों आज जमाना कितने आगे पहुँच गया हम जो मंगक गृह से करोड़ों अरवों मील की दूरी पर है फिर भी इस आधुनकी टेक्नॉलजी से हम इतने दूर रह कर भी उस गृह के बारे मैं पता लगा पा रहे हैं।

“लाल ग्रह” मंगल ग्रह को संदर्भित करता है। हम यह पता लगाने के करीब और करीब पहुंच रहे हैं कि क्या मंगल ग्रह पर जीवन कभी अस्तित्व में था क्योंकि इस बारे मैं हम इसलिए चर्चा कर पा रहे हैं क्योंकि यह तो पहले से खोज हो चुकी है यह पहले एक नीला गृह था ओर जोकी पानी से भरा हुआ था। हालांकि मंगल ग्रह पर पानी था या फिर नहीं, अधिकांश वैज्ञानिकों के अनुसार, सटीक मात्रा अभी भी सवालों के घेरे में है। यह विषय पानी की सटीक मात्रा को लेकर हमेशा सवालों मैं फस जाता है क्यों कई वैज्ञानिकों के मत इस विषय पर अलग अलग हैं।

Red Planet: नई शोध से पता चला है कि मंगल कभी 300 मीटर गहरे समुद्र से ढका हुआ था

कोपेनहेगन विश्वविद्यालय के एक हालिया रेसर्च के अनुसार, 4.5 अरब साल पहले ग्रह पर, पूरे ग्रह को कवर करने के लिए 300 मीटर गहरे महासागर के लिए पर्याप्त पानी था। इस स्टडी पर Centre for Star and Planet Formation के प्रोफेसर मार्टिन बिजारो कहते हैं “इस समय, मंगल ग्रह पर बर्फ से भरे क्षुद्रग्रहों की बमबारी की गई थी। यह ग्रह के विकास के पहले 100 मिलियन वर्षों में हुआ था। एक और दिलचस्प कोण यह है कि क्षुद्रग्रहों में कार्बनिक अणु भी थे जो जीवन के लिए जैविक रूप से महत्वपूर्ण हैं”

बर्फ क्षुद्रग्रहों ने न केवल लाल ग्रह पर पानी पहुंचाया, बल्कि अमीनो एसिड जैसे जैविक रूप से महत्वपूर्ण यौगिकों को भी पहुंचाया। जब डीएनए और आरएनए एक सेल के सभी आवश्यक घटकों वाले बेस बनाने के लिए गठबंधन करते हैं, तो अमीनो एसिड का उपयोग किया जाता है।

red planet mars new research ocean on mars

Red Planet Mars: रेसर्च से पता चला है की पृथ्वी से भी ज्यादा था मंगल गृह पर पानी

रेपोर्ट्स के मुताबिक शोध से पता चल है की हमारी धरती से कहीं ज्यादा पानी पहले मगल गृह पर हुआ करता था रेसर्चर ने बताया की पृथ्वी से पहले, मंगल ग्रह के पास जीवन के लिए सही वातावरण हो सकता है। नवीनतम शोध के अनुसार, ग्रह के प्राचीन महासागर कम से कम 300 मीटर गहरे थे। वे एक किलोमीटर की गहराई तक पहुंच सकते हैं। हालांकि जेसे जेसे समय निकलता जा रहा है ओर टेक्नॉलजी का विस्तार होता जा रहा हैं तो वाहन दिन भी दूर नहीं जब इंसान मंगल गृह पर जा पाएगा।

Ocean on mars: महटवपूर्ण लिंक्स

Beauty of NagalandClick Here
Free Fire Max Redeem CodeClick Here
Google NewsFollow
TwitterFollow
FacebookFollow
InstagramFollow
TelegramFollow
Koo AppFollow

Preeti Jha is a Creative Writer and Editor for CSCPORTAL.IN. She has more than 4 years of experience creating technical documentation and leading support teams at major web hosting and digital marketing companies.

Leave a Comment

Smartphone under 7000 सस्ते Price में दमदार फोन Tecno Pova 6 Pro 5G दमदार फीचर्स के साथ सस्ते Price में Tecno Pova 5 Pro 5G लाया है सभी इंटेलिजेंट फीचर्स का एक साथ! Top 10 Bollywood Dandiya & Garba Songs Navratri Special 2024 Hindi Diwas 2024 के बारे में ये बातें आपको भी नहीं पता होंगी