प्रधान मंत्री JI-VAN योजना लाभ 2019

प्रधान मंत्री JI-VAN योजना 

PM JI-VAN योजना लिग्नोसेलुलोसिक बायोमास और अन्य नवीकरणीय फीडस्टॉक के उपयोग द्वारा एकीकृत बायो-इथेनॉल परियोजनाओं को वित्तीय सहायता प्रदान करने जा रही है। JI-VAN योजना का वित्तीय निहितार्थ यह है कि केंद्रीय सरकार इस योजना को 2019-19 से 2023-24 की अवधि के लिए 1959.50 करोड़ रुपये की कुल वित्तीय सहायता प्रदान करेगी।

इस राशि में से 12 वाणिज्यिक परियोजनाओं को समर्थन देने के लिए 1800 करोड़ रुपये आवंटित किए जा रहे हैं। इसके अलावा, प्रदर्शन परियोजनाओं को समर्थन देने के लिए 150 करोड़ रुपये प्रदान किए जाएंगे और शेष 9.50 करोड़ रुपये प्रशासनिक शुल्क के रूप में सेंटर फॉर हाई टेक्नोलॉजी (सीएचटी) को दिए जाएंगे।
पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय ने वित्त वर्ष 2022 तक पेट्रोल में इथेनॉल का 10% सम्मिश्रण प्राप्त करने का लक्ष्य रखा है।

प्रधान मंत्री JI-VAN योजना लाभ

EBP कार्यक्रम के तहत सरकार द्वारा निर्धारित लक्ष्य के पूरक के अलावा, PM JI-VAN योजना के निम्नलिखित लाभ होंगे: –

  • केंद्रीय सरकार के दृष्टिकोण को पूरा करने के लिए। जैव ईंधन के साथ जीवाश्म ईंधन को प्रतिस्थापित करके आयात निर्भरता को कम करने के लिए।
  • जीवाश्म ईंधन के प्रगतिशील सम्मिश्रण / प्रतिस्थापन द्वारा जीएचजी उत्सर्जन में कमी के लक्ष्यों को प्राप्त करना।
  • पर्यावरण संबंधी चिंताओं को दूर करने के लिए जो कि बायोमास के जलने, फसल के अवशेष और नागरिकों के स्वास्थ्य में सुधार के कारण होती हैं।
  • अपने अपशिष्ट कृषि अवशेषों के लिए पर्याप्त आय सुनिश्चित करके किसान की आय बढ़ाने के लिए।
  • बायोमास आपूर्ति श्रृंखला के साथ 2 जी इथेनॉल परियोजनाओं में ग्रामीण और शहरी रोजगार के अवसरों का निर्माण।
  • बायोमास और शहरी कचरे जैसे गैर-खाद्य जैव ईंधन फीडस्टॉक्स के एकत्रीकरण का समर्थन करके स्वच्छ भारत मिशन में योगदान दें।
  • इथेनॉल प्रौद्योगिकियों के लिए दूसरी पीढ़ी के बायोमास का स्वदेशीकरण।
    ईबीपी कार्यक्रम के तहत सम्मिश्रण प्रतिशत बढ़ाने के लिए प्रधान मंत्री जीआई-वैन योजना के लाभार्थियों द्वारा उत्पादित इथेनॉल की आपूर्ति तेल विपणन कंपनियों (ओएमसी) को की जाएगी।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *