Madhubabu Aain Sahayata Yojana 2019 In Hindi

Madhubabu Aain Sahayata Yojana 

लोगों के कानूनी अधिकारों को उनकी वित्तीय स्थिति के आधार पर निर्धारित नहीं किया जाना चाहिए। ग़रीबों और ज़रूरतमंदों को कानूनी सहायता देने के उपाय के रूप में, ओडिशा सरकार ने एक पहल शुरू की है, जिसे मधुबाबू योजना के रूप में जाना जाता है। यह योजना जमीनी स्तर पर कानूनी सहायता प्रदान करने का इरादा रखती है।

Odisa Govt. ने मुफ्त कानूनी सहायता प्रदान करने के लिए Madhubabu Aain सहायता योजना शुरू की है। Madhubabu Aain योजना को ओडीशा के मुख्यमंत्री श्री नवीन पटनायक द्वारा 24 दिसम्बर 2016 को शुरू किया गया था ।

Madhubabu Aain Sahayata Yojana उद्देश्य

जैसा कि पहले ही बताया जा चुका है, इस योजना का उद्देश्य समाज के कुछ वर्गों को इसके लिए कोई शुल्क नहीं देना है। साथ ही, यह योजना लोगों के बीच उनके कानूनी अधिकारों के बारे में जागरूकता पैदा करने का प्रयास करती है।

Madhubabu Aain योजना के सहायता केन्द्र पंचायत कार्यालय में होंगे। सरकार द्वारा हर शनिवार या फिर प्रति माह माह में अधिकतर चार दिन ‘Sahayata Sibir’ संगठित होगी जिससे कि अधिकतम ग़रीबो, महिलाओं, पिछड़े वर्गों, गांवों के पुराने पीड़ित लोगों के कानूनी विवादों को ख़तम किया जा सके।

Madhubabu Aain Sahayata Yojana पात्रता

यह योजना वरिष्ठ नागरिकों, महिलाओं, बच्चों और उन लोगों को पूरा करती है जो ओडिशा राज्य के SC और ST समुदाय के हैं।

Madhubabu Aain Sahayata Yojana की विशेषताएं

  • योजना उन लोगों को कानूनी सलाह प्रदान करना चाहती है जो योजना के लिए अर्हता प्राप्त करते हैं।
  • इस योजना को तीन साल के न्यूनतम अनुभव वाले वकीलों की सहायता से संचालित किया जाएगा। इन वकीलों का नेतृत्व जिला कलेक्टर द्वारा नियुक्त पैनल द्वारा किया जाएगा।
  • नियुक्त वकील को प्रत्येक बैठने के लिए 500 रुपये का शुल्क प्रदान किया जाएगा।
    ग्राम रोजगर सेवक / पंचायत कार्यकारी अधिकारियों को कानूनी प्रकोष्ठ का प्रबंधन सौंपा जाता है। उन्हें इस सेवा के लिए 150 रुपये का भुगतान किया जाएगा।
  • सरकार हर शनिवार को “सहयाता शिबिरों” का आयोजन करेगी। “सहायत शिबिर” एक बैठक है, जो योजना में शामिल लोगों के कानूनी मुद्दों से निपटने के लिए आयोजित की जाती है।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *