प्लास्टिक कचरा बेचने पर मिलेंगे 75 रुपये प्रति किलो

हिमाचल प्रदेश सरकार ने एक नई Himachal Pradesh Single Use Plastic Buy Back योजना 2019 शुरू की है। इस योजना के तहत, राज्य सरकार 75 रुपये प्रति किलो के न्यूनतम समर्थन मूल्य के साथ एकल-उपयोग, non-recyclable प्लास्टिक कचरे को खरीदेगा। यह योजना 2 अक्टूबर 2019 को महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती के अवसर पर आयोजित समारोह में Himachal Pradesh CM जय राम ठाकुर द्वारा शुरू की गई है।

स्थति को देखते हुए सर्कार का अनुमान है की , कुल प्लास्टिक जो एकत्र होने की संभावना है, लगभग 75,000 किलोग्राम होगा। प्लास्टिक खरीदने के लिए आवश्यक बजट लगभग 2.81 करोड़ रुपये है। गैर-पुन: उपयोग योग्य कचरे में पॉलीथीन बैग शामिल होंगे और सरकार इस कचरे को चीर-बीनने वालों, घरों और शहरी स्थानीय निकायों (ULB) से खरीदेगी।

यंहा पर हम आप सभी को बताना चाहेंगे 2 अक्टूबर 2009 से ही , हिमाचल प्रदेश राज्य में पॉलिथीन बैग के उपयोग पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया गया है। 16 सितंबर 2019 को एचपी एकल-उपयोग प्लास्टिक बायबैक योजना को कैबिनेट की मंजूरी मिल गयी थी ।

इस योजना के माध्यम से स्वच्छ भारत अभियान को भी आगे बढ़ाना है जिससे की प्रदेश मैं प्लास्टिक USE को बहुत ज्यादा कम किया जा सके

मुख्यमंत्री प्लास्टिक मुक्त योजना 2019

इस योजना के माध्यम से लोग non-recyclable प्लास्टिक कचरे को इकट्ठा करके 75 रुपये प्रति किलो मूल्य के हिसाब से सरकार को बेच कर पैसे कमा सकते हैं।

हिमाचल प्रदेश के सीएम जय राम ठाकुर ने HP सिंगल यूज प्लास्टिक बाय बैक स्कीम लॉन्च की है। महात्मा गांधी की जयंती समारोह में, मुख्यमंत्री जी ने कहा कि एकल उपयोग प्लास्टिक (डिस्पोजेबल) न केवल पर्यावरण के लिए खतरा है, बल्कि मनुष्यों और जानवरों के लिए एक स्वास्थ्य खतरा भी है। इसलिए हमें प्लास्टिक का उपयोग अत्यधिक कम करना होगा

MORE  5 Best Data Recovery Software for Windows Updated 2018 ( Data Recovery Full Guide Hindi )

यह योजना लोगों को पॉलिथीन के बजाय पर्यावरण के अनुकूल बैग का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करेगी। एचपी राज्य सरकार ने पहले ही प्लास्टिक बैग और प्लास्टिक और थर्मोकोल से बने कटलरी के उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसलिए अब लोगों के पास जूट के थैले आदि उपयोग करने का विकल्प है।

राज्य सरकार 2 अक्टूबर 2019 को, प्लास्टिक कचरे को मिटाने के लिए “श्रमदान” करने के लिए भी दिन मनाती है। गांधीजी के मानवतावादी संदेश और विचारधारा को जीवन में अपनाने की आवश्यकता है। इस वर्ष, राज्य सरकार ने राष्ट्रपिता की 150 वीं जयंती को “स्वच्छ भारत सेवा” अभियान के रूप में मनाया।

Plastic ban notification source :  Department of Environment, Science & Technology, Himachal Pradesh

 

दूसरों के साथ शेयर करें

Leave a Comment

Enable referrer and click cookie to search for pro webber