देवकीनंदन ठाकुर जी पर लगा 40 लाख हड़पने का आरोप जांच शुरू, जानें क्या है मामला

Devkinandan Thakur Ji Maharaj: देवकीनंदन ठाकुर जी को कोन नहीं जानता एसे मैं हाल ही मैं टकुर जी को लेकर एक चोंका देने वाली खबर सामने आई है वृंदावन के प्रमुख व्यक्ति भगवताचार्य पर जमीन बेचने के नाम पर 40 लाख रुपये का गबन करने का आरोप लगा है। पीड़ित ने दावा किया कि देवकीनंदन महाराज अपने द्वारा लिए गए पैसे वापस नहीं दे रहे है। वह पैसे मांगने के बदले धमकी देते है।

वृंदावन के भगवताचार्य और विश्व शांति सेवा चैरिटेबल ट्रस्ट के अध्यक्ष देवकीनंदन महाराज, उनके छोटे भाई विजय शर्मा और सहयोगी कमल शर्मा के खिलाफ आरोप लगाए गए हैं। माना जा रहा है कि इन लोगों ने जमीन की बिक्री के आधार पर 40 लाख रुपये की रकम ली थी। यह आरोप भाकियू भानु एजुकेशनल सेल के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर यशवीर सिंह राघव ने लगाया है। इस संबंध में उन्होंने पुलिस कार्यालय के वरिष्ठ निरीक्षक से भी शिकायत की और पुलिस अधिकारियों ने भी जांच के बाद कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

ये है 40 लाख हड़पने का पूरा मामला

भाकियू के नेता यशवीर सिंह राघव ने दावा किया कि भागवताचार्य देवकीनंदन महाराज को करीब साढ़े चार महीने पहले जैंत भरतिया मार्ग पर उनकी खाली जमीन के लिए 97 लाख रुपये प्रति एकड़ की दर से सोदा तय हुआ था। ठाकुर देवकीनंदन महाराज ने अपने कब्जे में 21 एकड़ जमीन पर दावा किया था। इस आधार पर 40 लाख रुपये विश्वशांति सेवा चैरिटेबल ट्रस्ट के खाते में जमा किए गए और शेष 25 प्रतिशत 40 दिनों में देने का करार हुआ था। पूरा भुगतान 18 महीने के भीतर करने का अनुरोध किया गया था। इस बीच महाराज ने किसी और से संपर्क किया ताकि वह महंगी रेट पर जमीन बेच सकें।

देवकीनंदन महाराज ने कहा कि आपको न जमीन मिलेगी और न ही पैसा। यह सुनकर खरीददार के होश उड़ गए। शिकायतकर्ता ने महाराज और उनके छोटे भाई विजय शर्मा, सहयोगी कमल शर्मा से संपर्क किया और गुहार लगाई, लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया और कहा कि अगर वह अपने पैसे लेने की फिराक में हैं, तो उन्हें झूठे मामले में मरवा दिया जाएगा या जेल भेज दिया जाएगा।

आचार्य जी का भाई देता है धमकियां

पीड़ित यशपाल राघव का कहना है कि सौदा 5 जुलाई को तय हुआ था 11 हजार की टोकन के साथ। दूसरे दिन यानी 6 जुलाई 2022 को शांति सेवा चैरिटेबल ट्रस्ट के खाते में 40 लाख रुपये की राशि ट्रांसफर की गई। पीड़ित द्वारा कहा जा रहा है कि जब भी वह पैसे वापस मांगने जाते हैं तो विजय शर्मा उन्हें धमकी देते थे।

हमारे पास सरकार और प्रशासन में अच्छी पकड़ है, आप कुछ भी नहीं कर पाएंगे। शांति से बैठना बेहतर है। आवेदक को पता चला कि देवकीनंदन महाराज द्वारा 21 हेक्टेयर भूमि ऐसी नहीं है, जिसमें जमीन का कारोबार स्थापित किया गया हो। यह पैसा हड़पने का एक तरीका था। आरोपी का कहना है कि 40 लाख रुपये की राशि उनकी पत्नी सुगंधा सिंह के खाते से दी गई थी। उन्हें भरोसा है कि योगी सरकार में उन्हें न्याय मिलेगा। घटना के लिए जिम्मेदार इंस्पेक्टर जैनत अरुण कुमार पंवार ने बताया कि एसएसपी कार्यालय से शिकायती पत्र मिला है, इसकी जांच कर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

भागवताचार्य के पीए ने किया खुलासा

जब मीडिया संस्थानों ने उनसे इस मामले पर संपर्क करने की कोशिस की तो देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज से संपर्क नहीं हो सका । ठाकुर देवकीनंदन शर्मा के पीए गजेंद्र ने कहा कि महाराज जी विदेश में हैं, उनसे बात करना अभी संभव नहीं है।

महत्वपूर्ण लिंक्स

Free RationClick Here
सरकार ने जारी किया नया नियमClick Here
Google NewsFollow
TwitterFollow
FacebookFollow
InstagramFollow
TelegramFollow
Koo AppFollow

Leave a Comment

Top 5 lyricists of Bollywood Top 5 Romantic Songs Hindi in 2022 Top 5 songs in Hindi 2022 Places To Visit In India Before You Turn 30 in 2022 Top 5 Best Hollywood movie series